Skip to main content

लीची का वानस्पतिक विवरण (प्ररोह तंत्र)

 

लीची का   वानस्पतिक विवरण (प्ररोह तंत्र) -

ऊँचाई          :    6-10 मीटर

चौडाई          :    6-8 मीटर

  •        पेड़ों का शिखर आकार गोल एवं विस्तारशील होता है। शिखर घनत्व सघन, वृध्दि दर मध्यम होती है।
  •        पर्ण विन्यास - एकान्तर
  •        पर्ण प्रकार - विषम पिच्छाकार रूप में संयुक्त
  •        पर्णक आकार - अण्डाकार, भालाकार, आयतरूप
  •        पर्णकों की संख्या - 6-7
  •        पर्ण प्रकार एवं स्थायित्व - चौड़ी पत्ती एवं सदापर्णी
  •        पर्ण फलक लम्बाई एवं चौड़ाई - क्रमश: १०-२० से.मी. एवं ५-१० से.मी.
  •        पत्ती का रंग - हरा
  •        पुष्प गुच्छ - शाखित
  •        पुष्प रंग - पीला
  •        पुष्प अभिलक्षण - भड़कीला, बसन्त ऋतु में पुष्पन
  •        वृक्ष के बढ़ने पर शाखाएं लटक जाती हैं। अनेक स्तम्भ पाए जाते हैं जो भड़कीला एवं काँटों के बिना होते हैं।
  •        वर्तमान वर्ष की टहनियों का रंग - हरा
  •        वर्तमान वर्ष की टहनियों की मोटाई - पतली

मूलतंत्र - मूसला मूलतंत्र 1 मृदा पृष्ठ से 25-30 से.मी. नीचे पोषक जड़ें उपस्थित होती हैं जो मुख्यत: खनिज पोषकों एवं जल के अवशोषण के लिए उत्तरदायी होती हैं।

2-   तुड़ाई के बाद गुणवत्ता में सुधार नहीं होता हैं। अत: वृक्ष पर उचित ढंग से पकने देना चाहिए। फलों में तुड़ाई के बाद श्वसन दर नहीं बढ़ती है।

3-   उपोष्णकटिबंधीय फल - यह ऐसे क्षेत्रों में उगाया जाता है जहाँ ठंडा, शुष्क, पालारहित, शीतकाल और अधिक वर्षा एवं आर्द्रता से युक्त लम्बा गर्म ग्रीष्मकाल होता है।

4-   जलवायु - उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्र

                 आपेक्षिक आर्द्रता - 60 प्रतिशत से ऊपर

                 वर्षा - उच्च से लेकर साधारण वर्षा

                 तापमान - 18-270 से0 (पुष्पन से फलक तक तापमान 21-400 से0 होता है। 

 

 

 

0
Your rating: None

Please note that this is the opinion of the author and is Not Certified by ICAR or any of its authorised agents.