Skip to main content

मिथ्या कंड

 

मिथ्या कंड

 

रोगकारी जीव : आस्टिलेजिनाइडीज विरेन्स

लक्षण

  •         कवक पुश्पगुच्छ के अलग - अलग दानों के पीले या हरा - सा मखमली बीजाणु कंदुकों में परिवर्तित करता है।
  •         ये बीजाणु कंदुक झिल्ली से ढकं होते है जो आगे वृध्दि के साथ फट जाती है।
  •         कंदु का रंग नारंगी से पीला - सा हरा और उससे हरा - सा काला रंग में परिवर्तित हो जाता है।



 

0
Your rating: None

Please note that this is the opinion of the author and is Not Certified by ICAR or any of its authorised agents.