Skip to main content

पर्णकुंचन :पपीता

 

पर्णकुंचन :

यह रोग विशाणु (वायरस) द्वारा होता है तथा एक पौधें से दूसरे पौधे में सफेद मक्खी द्वार फैलता है। इस रोगो से मुख्यत: नई पत्तियॉ ही प्रभावित होती हैं। लक्षण पत्तियों के मुड़ने, संकुचित होने तथा विकृत होने के रूप में प्रकट होता है।  पत्तियों की शिरांए सफेद तथा मोटी हो जाती है। कभी-कभी पत्तियों का डण्ठल ऐठ जाता है। संक्रमित पौधों की बढ़वार रूक जाती ह। तथा उपज घट जाती है।

 

whitefly

 

प्रबन्धन :

1-   रोग के लक्षण दिखाई पड़ते ही प्रभावित पौधे को उखाड़कर नष्ट कर देना चाहिए।

2-   सफेद मक्खी के नियन्त्रण हेतु डाईमिथोएट (0.05%) या मेटासिस्टाक्स (0.02%) या मैलाथियान (0.1%) या फास्फेमिडानर (0.05%) का 10-12 दिन के अन्तराल पर 4-5 छिड़काव करें।

0
Your rating: None

Please note that this is the opinion of the author and is Not Certified by ICAR or any of its authorised agents.