Skip to main content

Please note that this site in no longer active. You can browse through the contents.

एरियोफिड माइट: लीची का हानिकारक कीट

एरियोफिड माइट:

  • अर्भक (निम्फ) एवं व्यस्क दोनों पत्तियों को कीटग्रस्त करते हैं।
  • वयस्क माइट छोटे सफेद रंग के कीट होते हैं जो पत्तियों के पृष्ठ के नीचे रहते हैं।
  • माइट पत्तियों में छेद करते हैं और पत्ती  के ऊतकों को फाड़कर कोशिका  रस चूसते हैं। नई (तरूण) पत्तियों पर आक्रमण करते हैं और उनके ऊपरी पृष्ठ पर रोमिल, फफोलासदृश पिटिका उत्पन्न करते हैं।
  • पत्तियाँ मोटी, झुर्रीदार और विकृत हो जाती हैं। अन्त में पत्तियाँ गिर सकती हैं, माइट भी आक्रमण करते हैं और पुष्पक्रम को विकृत कर देते हैं।
  • बम्बई, चाइना एवं कस्बा किस्मों पर आक्रमण अधिक गंभीर होता है।

माइट के कारण लीची की पत्तियों पर मखमली वृद्धि       माइट के कारण लीची की पत्तियों का कुंचन

                 माइट के कारण लीची की पत्तियों पर मखमली वृद्धि                                          माइट के कारण लीची की पत्तियों का कुंचन

नियंत्रण:

  • कीटग्रस्त पादप हिस्सों की काट-छाँट एवं नष्ट करने से माइट संख्या को नियंत्रित करने में सहायता मिलती है।
  • माइटों के प्रभावशाली नियंत्रण के लिए जनवरी, अप्रैल एवं अगस्त के महीने में केल्थेन (0.12 प्रतिशत) या डाइमेथोएट (1 मि.ली./लीटर) के छिड़काव की संस्तुति की गई है।
0
Your rating: None Average: 3 (1 vote)