Skip to main content

Please note that this site in no longer active. You can browse through the contents.

Kharif

बाजरा का हरा चारा

ग्वार का हरा चारा

मक्का का हरा चारा

मकचरी

ज्वार का हरा चारा

बहु कटान वाली ज्वार

एम.पी. चरी एवं पूसा चरी २३ एस.एस.जी ५९-८ (मिठी सुडान) एम.एफ.एस.एच.३ पन्त संकर ज्वार-५ इन्हे एक से अधिक कटाई के लिए ज्वार की सबसे अच्द्दी किस्म माना गया है। इसमें ७-९ प्रतिशत प्रोट्रीन होती है तथा ज्वार मे पाया जाने वाला विष हाइड्रोसायनिक अम्ल भी कम होता है।

लोबिया का हरा चारा

बासमती/सुगन्धित धान की वैज्ञानिक खेती

तिल की खेती

मुख्य बिन्दु

१. बुवाई १०-२० जुलाई तक अवश्य कर ली जायें।
२. पानी के निकास की समुचित व्यवस्था करे।
३. बुवाई के १५-२० दिन बाद विरलीकरण अवश्य करें।

मक्का की खेती

अन्य आवश्यक क्रियाये: 

वर्षा के पानी तेज हवा से फसल को बचाने के लिए पौधों की जड़ों पर मिट्‌टी पलटने वाले हल से मिट्‌टी चढ़ा देनी चाहिये।

सोयाबीन की खेती

सूत्रकृमि:

सूत्रकृमि जनित बीमारियॉ रोकने के लिये हरी खाद गर्मी की गहरी जुताई या खलियॉ की खाद का उचित मात्रा में प्रयोग किया जाय।

अरहर की खेती

सूत्रकृमि: सूत्रकृमि जनित बीमारी की रोकथाम हेतु गर्मी की गहरी जुताई आवश्यक है।

कम अवधी कि अरहर कि फसल में एकीकृत कीट प्रबंधन:

Syndicate content